Overcoming Baiting by the J&K Separatists & Terrorists

The first week of May each year brings the J&K Government back to Srinagar after its six month occupation of the seat in Jammu. It’s the time when many activities occupy the minds of the political and military leadership on the security front. Among them is the need to take stock of the strength of terrorists and the available indicators of the infiltration attempts in the calendar year.

CDS: An idea whose time has come

The Chief of Defence Staff is expected to render mature, single point advice while remaining a first among equals with the service chiefs.

प्रधानमंत्री की ईरान यात्राः महत्वपूर्ण संबधों में बुनियाद पर जोर

बमुश्किल महीने भर पहले प्रधानमंत्री मोदी भारत के लिए अत्यधिक रणनीतिक महत्व वाले पुराने संबंधों को मजबूत करने के लिए सऊदी अरब में थे। बीस लाख से अधिक भारतीय वहां रहते हैं, अपने घर धन भेजते हैं और उस संबंध को बनाए रखने में मदद करते हैं, जिससे भारत की ऊर्जा संबंधी अधिकतर आवश्यकताएं पूरी होती हैं। यात्रा के दौरान भारत में हुई सभी टिप्पणियों में सऊदी अरब और ईरान के साथ भारत के संबंधों में संतुलन लाने की आवश्यकता का जिक्र अवश्य हुआ। ईरान के साथ संबंध अब नए रास्ते पर हैं किंतु वह रास्ता अभी तक अनिश्चित है। मोदी ने उन्हें निराश नहीं किया है और जल्द ही वह ईरान की यात्रा पर जाएंगे। इस यात्रा के रणनीतिक

Awaiting RMA: Indian Army

Throughout history, advances in technology and strategy have revolutionised the way wars are fought. But never before has the spread, influence and penetration of a technology been so rapid and wide spread as the Information and Communication Technology (ICT) and Media. These have brought the world together through globalization and have become the drivers for economic growth. Not only have they created a new security paradigm but have greatly revolutionised the way we conduct warfare.

विदेश सचिवों की बैठकः स्पष्टवादी, हां; रचनात्मक, नहीं

नई दिल्ली में ‘हार्ट ऑफ एशिया’ सम्मेलन के दौरान भारत और पाकिस्तान के विदेश सचिवों की बैठक में कोई प्रगति नहीं हुई। वास्तव में यह बैठक इतनी महत्वहीन थी कि मीडिया का वह उन्माद भी गायब था, जो भारत और पाकिस्तान के बीच कुछ भी होने पर नजर आता है। गनीमत यही रही कि दोनों पक्ष प्रत्येक उपलब्ध मंच पर एक दूसरे से संवाद करते हैं या आप चाहें तो कह सकते हैं कि इसका दिखावा करते हैं। यद्यपि भारत ने ‘संबंधों को आगे ले जाने’ में दिलचस्पी दिखाई और पाकिस्तान ने ‘समग्र वार्ता जल्द से जल्द आरंभ करने’ का समर्थन किया, लेकिन यह स्पष्ट महसूस हुआ कि दोनों पक्ष बातचीत का केवल दिखावा कर रहे थे।

Jesus as a Third Candidate in the US elections

In the last 30 or so years the importance of Jesus in US elections has increased substantially. This is in a situation where Christianity– in the church going /family values sense– has seen a decline. The number of birth out of wedlock has increased to more than 50 per cent and that itself shows the weakening of traditional Church influence on American citizens.

राष्ट्रपति ने सही किए कुछ ऐतिहासिक तथ्य - नरसिंह राव को दिया यथोचित श्रेय

जो मानते हैं कि कांग्रेस पार्टी और उसकी ओर झुकाव वाले इतिहासकारों ने पूर्व प्रधानमंत्री नरसिंह राव के साथ न्याय नहीं किया है, उन्हें राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की आत्मकथा “टर्बलंट इयर्सः 1980-1996” का दूसरा खंड पढ़कर अच्छा लग सकता है, जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री के रूप में श्री राव के सामने आई प्रमुख समस्याओं पर अपने विचार व्यक्त किए हैं। मुखर्जी शाह बानो मामले में अदालत का फैसला पलटने के राजीव गांधी के निर्णय, बाबरी मस्जिद विध्वंस और 1991 में भुगतान संतुलन संकट समेत कई विस्फोटक सामाजिक, राजनीतिक एवं आर्थिक मुद्दों पर बात करते हैं, जिनका सामना देश ने उस दौरान किया था। मुखर्जी स्वीकार करते हैं क

The Crises within Daesh

In less than a year, the Daesh as come a long way from being considered as the world’s wealthiest terror organisation in 2014, to struggling to finance its operations in 2016. In mid-2015, Daesh’s overall monthly revenue in the territories under its control in Syria and Iraq was estimated at US$80 million but plummeted to US$56 million in March this year. This has come about with the destruction of several oil fields by air campaigns conducted by the United States (US)-led coalition and that of the coordinated efforts between Russia and its allies.

The War on ISIS (Daesh) : What will finally Work

Two years after the emergence of Daesh the world is still suffering from the ambitions of the Caliphate that Abu Bakr al Baghdadi set up in Northern Iraqi and Syrian territory. The supposed Caliphate’s strength emerges from its control of territory, systems for income of finances, leadership, an army of fighters and the emotional link that it has due to the geographic proximity to the Islamic shrines and the tribal Arab areas. Daesh has survived two years, more due to the inability of the rest of the world, including the UN, to find any consensus on how to deal with it.