चीन
परमाणु हथियार की ईरान की चाहत पर लगा ग्रहण

ईरान के नतंज़ परमाणु केंद्र पर पिछले 2 जुलाई को हुए विस्फोट से ऐसा लगता है कि उसके महत्त्वपूर्ण सेंट्रिफ़्यूजों को भारी नुक़सान पहुँचा है जिसकी वजह से उसके परमाणु कार्यक्रम में दो वर्ष की देरी हो सकती है। इससे पहले, ईरान के परचिन सैनिक अड्डे पर...

सीमा पर चीन का ख़तरनाक रुख : चीन से हो गई चूक

पिछले दो महीनों से पूर्वी लद्दाख़ में भारतीय और चीनी सैनिक ख़तरनाक ढंग से आमने-सामने हुए हैं और इस वजह से उस सीमा पर कई बार हिंसक घटनाएँ हुई हैं। यह सैनिक तनातनी सीमा पर चीन के ख़तरनाक रुख के कारण पैदा हुआ है जो चीन की दशकों पुरानी ‘धीमी आक्रामकता’...

हैगिया सोफिया से संबंधित घटनाएं भारत की नैतिक आवाज के लिए आह्वान

ऐतिहासिक हैगिया सोफिया संग्रहालय को एक मकबरे के रूप में परिवर्तित करने का टर्की का हाल का फैसला निंदनीय है। कमाल अतातुर्क द्वारा टर्की को एक वास्तविक आधुनिक देश में रूपांतरित करने के लिए उठाये गए कदमों को, जिसकी पूरी दुनिया ने तारीफ की थी, पीछे कर...

भारत-चीन टकराव: रिश्तों में आया मोड़

लद्दाख में कई स्थानों पर और सिक्किम के नाकू ला में भारत और चीन के बीच जारी टकराव के कारण दोनों देशों के आपसी रिश्ते एक मोड़ पर आ गए हैं। चीन के दोमुंहेपन और जबरदस्ती के कारण शुरू हुए इस टकराव की अत्यधिक गंभीरता को परखते समय इसके कारणों को स्पष्ट रूप...

प्रधानमंत्री मोदी का लेह दौरा: आगे क्या?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 3 जुलाई को भारत-चीन सीमा के निकट लेह के करीब एक सैन्य ठिकाने का औचक दौरा भारत-चीन सैन्य टकराव में बड़ा मोड़ लेकर आया। नौ हफ्तों से जारी टकराव सैन्य कमांडर स्तर एवं अधिकारी स्तर की राजनीतिक वार्ताओं के कई दौरा होने के बाद...

चीन और मलेशिया के बीच दक्षिण चीन सागर में पनपता टकराव

दुनिया इस समय वुहान से निकले जानलेवा कोविड-19 वायरस से निपटने में जुटी है और चीन दक्षिण चीन सागर पर कब्जा करने की अपनी खतरनाक नीति को पूरी बेशर्मी से आगे बढ़ा रहा है। चीन की विस्तारवादी नीति का हालिया निशाना मलेशियाई विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र या...

कोरोना – जैविक युद्ध और अन्य निहितार्थ

कोरोनावायरस की तीव्रता और प्रसार दुनिया के लिए अभूतपूर्व रहा है। इससे पहले की सभी महामारियों का असर या तो छोटे क्षेत्रों पर हुआ था या कुछ ही समय में वे खत्म हो गई थीं। मौतों की बात करें तो 1347 और 1351 के बीच यूरोप में चरम पर पहुंचने वाली ‘ब्लैक डेथ...

भारत में COVID-19: रणनीति मानव व्यवहार पर केंद्रित होनी चाहिए

कोरोना वायरस महामारी से उपजे वैश्विक संकट के मद्देनजर, जिम ओ'नील की भारतीय शासन व्यवस्था के बारे में टिप्पणी न केवल अस्वाभाविक थी, बल्कि गैर-जरूरी भी थी।1 चर्चा इस बाबत थी कि पश्चिमी देशों को घातक कोरोना वायरस के संदर्भ में चीन द्वारा तेज और आक्रामक...

चीन और अमेरिका तिब्बत मुद्दे पर एक-दूसरे के विरोधी के रूप में उभर सकते हैं

चीन के कम्युनिस्ट अधिकारी लगभग 18 महीने पहले इस निष्कर्ष पर पहुँच चुके थे कि 16वें दलाई लामा के देहधारण के चयन का समय निकट आ रहा है। तब से उन्होंने तिब्बती लोगों के दिलों और दिमागों पर कब्जा करने और तिब्बती बौद्ध धर्म को "चीन के समाजवाद की विशेषताओं...

एशियाई भूराजनीति में चीन का प्रभावः भारत के लिए निहितार्थ

शी चिनफिंग के शब्दों में चीन ‘बंधुत्व, परस्पर विश्वास एवं समावेशन’ के आधार पर प्रमुख देखों के साथ संबंधों का एक ‘नया मॉडल’ यानी नवीन प्रतिरूप बना रहा है जिसमें पड़ोसी देशों के साथ संबंध बनाने की एक नीति भी तैयारी की जा रही है। भूराजनीतिक रूप से...

Contact Us